अमेरिकी रक्षा प्रमुख ने ईरान का मुकाबला करने का संकल्प लिया
अमेरिकी रक्षा प्रमुख ने ईरान का मुकाबला करने का संकल्प लिया

दुबई। अमेरिका के शीर्ष रक्षा अधिकारी ने शनिवार को संकल्प लिया कि वह ईरान को परमाणु हथियार हासिल करने और पश्चिम एशिया में आत्मघाती ड्रोनों के इसके खतरनाक इस्तेमाल से निपटेंगे। यह संकल्प विश्व शक्तियों के साथ हुए ईरान के अधर में लटके परमाणु समझौते को लेकर बातचीत ठप रहने के बीच आया है।


वार्षिक मनामा संवाद में रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन की टिप्पणियां संभवत: अमेरिका के खाड़ी के अरब सहयोगियों को आश्वस्त करने के उद्देश्य से हैं जहां बाइडन प्रशासन परमाणु समझौते को पुनर्जीवित करने की कोशिश कर रहा है, जिसने आर्थिक प्रतिबंधों को हटाने के बदले ईरान के यूरेनियम के संवर्धन गतिविधि को सीमित कर दिया था।


उनकी टिप्पणी खाड़ी के देशों के द्वारा अफगानिस्तान से अमेरिका की अव्यवस्थित वापसी के बाद आई है। इसने इस क्षेत्र के प्रति अमेरिका की प्रतिबद्धता के बारे में चिंताएं जाहिर की हैं जहां रक्षा अधिकारियों का कहना है कि वे चीन और रूस से कथित चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए अपनी ताकत बढ़ाना चाहते हैं।


ऑस्टिन की टिप्पणियों के मुताबिक वह इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटेजिक स्टडीज द्वारा आयोजित कार्यक्रम को बताएंगे, अमेरिका ईरान को परमाणु हथियार हासिल करने से रोकने के लिए प्रतिबद्ध है और हम परमाणु मुद्दे के राजनयिक परिणाम के लिए प्रतिबद्ध हैं।


लेकिन अगर ईरान गंभीरता से शामिल होने को तैयार नहीं है, तो अमेरिका को सुरक्षित रखने के लिए आवश्यक सभी विकल्पों पर गौर करेंगे।
ईरान ने लंबे समय से अपने परमाणु कार्यक्रम को शांतिपूर्ण बनाए रखा है, हालांकि अमेरिकी खुफिया एजेंसियों और अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी का कहना है कि तेहरान के पास 2003 तक एक संगठित हथियार कार्यक्रम था।

Share this story