2025 तक यमुना को साफ कर लेंगे : अरविंद केजरीवाल
2025 तक यमुना को साफ कर लेंगे : अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यमुना को साफ करने के लिए 6 स्तरीय का एक्शन प्लान बनाया और कहा कि फरवरी 2025 तक इसे पूरा कर लिया जाएगा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इसकी विस्तृत रूपरेखा दिल्ली सरकार कोई नई ट्रीटमेंट प्लांट बनाकर तैयार कर रही है। मौजूदा ट्रीटमेंट प्लांट की क्षमता बढ़ा रही है और उसकी पुरानी टेक्नोलॉजी को बदल रही है ताकि सीवर का पानी साफ निकाल सके।हम नई तकनीक का प्रयोग कर नजफगढ़, बारापुला, सप्लीमेट्री और गाजीपुर ड्रेन का इन-सीटू सफाई कर रहे हैं। औद्योगिक कचरे पर भी नकेल सकेंगे। इसके लिए जो भी इंडस्ट्री अपने कचरे को ट्रीटमेंट के लिए नहीं भेजेंगी, उनको बंद किया जाएगा और झुग्गी झोपड़ी क्लस्टर्स में जन सुविधा कॉम्प्लेक्स समेत सारी गंदगी को अब सीवर में डाला जाएगा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अब सीवर कनेक्शन के लिए किसी को आवेदन नहीं करना होगा।

दिल्ली सरकार 100 फीसद घरों से सीवर तक का कनेक्शन खुद लगाएगी। मैं एक-एक कार्य पर कड़ी रखूंगा और हम उम्मीद करते हैं कि जल्द ही दिल्ली वालों का सपना पूरा होगा और फरवरी 2025 तक यमुना को जरूर साफ कर लेंगे। सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ”मैं जो कहता हूं, वो करता हूं। ज़ुबान का पक्का हूं। अगले चुनाव के पहले यमुना ज़रूर साफ़ करेंगे। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह 70 साल का खराब किया हुआ काम है, जिसकी वजह से यमुना इतनी गंदी है, यह दो दिन में तो ठीक नहीं हो सकता है।मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा की यमुना नदी को साफ करने को लेकर तैयार किए गए खाके को दिल्ली वासियों के सामने रखा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यमुना नदी सभी दिल्लीवालों को बहुत प्यारी है और यमुना हमारी लाइफ लाइन है, लेकिन यमुना बहुत गंदी हो रही है। दिल्ली के सारे नाले यमुना नदी के अंदर गिरते हैं। यमुना का पानी बहुत गंदा है।

सभी दिल्लीवासी और देशवासी चाहते हैं कि दिल्ली से गुजरते वक्त यमुना साफ रहनी चाहिए। यमुना को इतना गंदा होने में 70 साल लगे। यह 70 साल का खराब किया हुआ सारा काम है, वह दो दिन में तो ठीक नहीं हो सकता है। मैने जब इस बार दिल्ली का चुनाव लड़ा था, तब दिल्ली वालों से वादा किया था कि अगले चुनाव तक मैं यमुना का साफ कर दूंगा। अगले चुनाव से पहले मैं भी यमुना में डुबकी लगाउंगा और आप सब लोगों को भी यमुना के साफ पानी में डुबकी लगवाउंगा।मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दूसरे एक्शन बिंदु के बारे बताया कि दिल्ली में ऐसे बहुत सारे गंदे नाले बहते हैं, जो अपनी दिल्ली को गंदा करते हैं। यह कितना गंदा लगता है, जब आप सड़क पर चल रहे होते हैं और बगल में गंदा नाला बह रहा होता है। दिल्ली देश की राजधानी है। यह गंदे नाले आगे जाकर यमुना में गिर जाते हैं। हम एक नई तकनीक का प्रयोग कर के चार प्रमुख गंदे नालों का वहीं पर (इन-सीटू) सफाई कर रहे हैं। पानी को कहीं और नहीं लेकर जाना पड़ेगा।

कुछ नालों को एसटीपी की तरफ डायवर्ट कर रहे हैं कि उनका सारा पानी एसटीपी में चला जाए और कुछ नालों को वहीं पर हम इन-सीटू सफाई कर रहे हैं। इसमें नजफगढ़ ड्रेन, बारापुला ड्रेन, सप्लीमेट्री ड्रेन और गाजीपुर ड्रेन का इन-सीटू सफाई का पूरा काम शुरू हो गया है। तीसरा- औद्योगिक कचरा। कानूनी रूप में कागजों में तो लिखा होता है कि इसकी सफाई हो रही है, लेकिन व्यवहारिक रूप में होती नहीं है। बहुत सारी इंडस्ट्री सिर्फ कागजों दिखा देती है कि उन्होंने कचरे को ट्रीटमेंट प्लांट में भेजा है, लेकिन वे कचरे को चुपके से नाले में डाल देते हैं और फिर नाले के जरिए वह यमुना में आ जाते हैं। हम औद्योगिक कचरे पर भी नकेल सकेंगे। जितने भी अफ्लूएंट ट्रीटमेंट प्लांट्स हैं, जो काम सही से नहीं कर रहे हैं, उनको सही से काम करवाया जाएगा और जो भी इंडस्ट्री अपने कचरे को ट्रीटमेंट के लिए नहीं भेजेगी, उस इंडस्ट्री को बंद किया जाएगा। अब सभी इंडस्ट्री को अपना कचरा ट्रीटमेंट प्लांट को भेजना होगा।मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने चौथे एक्शन बिंदु के बारे में बताया कि दिल्ली में जितनी भी झुग्गी झोपड़ी क्लस्टर्स हैं।

इन झुग्गी झोपड़ी क्लस्टर्स में जन सुविधा कॉम्प्लेक्स (टॉयलेट्स) हैं। कुछ जगह पर टॉयलेट्स की गंदगी तो सीवर में जाती है, लेकिन कई जगहों पर यह गंदगी बारिशों की पानी वाली नालियों में बहा दिया जाता है। जन सुविधा कॉम्प्लेक्स को बंद नहीं किया जाएगा, लेकिन उसके आउटपुट को बारिश के पानी वाली नालियों की बजाय उसे बगल से जा रहे सीवर से अटैच किया जाएगा। झुग्गी झोपड़ी क्लस्टर्स की जितनी गंदगी है, वह सारी गंदगी अब सीवर में डाली जाएगी। पांचवां, बहुत सारे ऐसे इलाके हैं, जहां पर सीवर का पूरा नेटवर्क बिछा दिया गया है। लेकिन कई लोगों ने सीवर के कनेक्शन नहीं लिए हैं और वो अपने घर की गंदगी को सीधे नाली में बहा देते हैं।

अब तक यह होता था कि जिस इलाके में सीवर का नेटवर्क लग गया है, वहां पर सीवर का नेटवर्क सरकार लगाती थी और एक-एक घर को सरकार में सीवर कनेक्शन के लिए आवेदन करना पड़ता था। इसके बाद हम अनुमति देते थे और फिर सीवर की लाइन से अपने घर तक का कनेक्शन लेने की उसकी खुद की जिम्मेदारी होती थी, जो कि बहुत से लोग लेते नहीं थे। अब हमने तय किया है कि आपके घर से सीवर तक का कनेक्शन हम खुद ही लगा देंगे। अब किसी को इसके लिए आवेदन करने की जरूरत नहीं है। हम खुद ही आपके घर तक सीवर का कनेक्शन लगा देंगे। इसका चार्ज भी हमने बहुत कम कर दिए हैं। जो भी नाममात्र का शुल्क होगा, उसे हम इंस्टॉलमेंट में पानी के बिल के साथ ले लेंगे।केजरीवाल ने एक उदाहरण देते हुए कहा कि पूरी ट्रांस यमुना एरिया (ईस्ट दिल्ली का इलाका) में पूरी तरह से सीवर नेटवर्क लग चुका है। लेकिन वहां से भी नालियों के अंदर बहुत ज्यादा गंदगी बह रही है, क्योंकि कई लोगों ने सीवर के कनेक्शन नहीं ले रखे हैं। वे लोग अपने घर की गंदगी नालियों में बहा देते हैं।

अब दिल्ली सरकार उनके घर तक के सीवर कनेक्शन खुद लगाएगी। आगे से अब 100 फीसद सीवर के कनेक्शन दिल्ली सरकार लगाया करेगी। छठां- जितना भी हमारा मौजूदा सीवर नेटवर्क है, उस पूरे नेटवर्क में जिनती भी गंदगी है, उसकी डी-सिल्टिंग और पुनर्वास (रिहैबिलिटेशन) का काम शुरू कर दिया गया है, ताकि इसको मजबूत किया जा सके। यह छह बिंदुओं का एक्शन प्लान है, जिसके जरिए हमारे इंजीनियर्स और ऑफिसर्स को पूरी उम्मीद है कि हम फरवरी 2025 तक यमुना को जरूर साफ कर लेंगे। एक-एक बिंदु पर मेरी नजर रहेगी। हमने एक-एक बिंदु पर स्पेशिफिक माइलस्टोन बनाए हैं। अगले एक महीने में क्या काम होगा, अगले दो महीने में क्या काम होगा और अगले चार महीने में कितना काम होगा, इन सबके माइल स्टोन बनाए गए हैं। इस पर मैं कड़ी नजर रखूंगा और समय सीमा (टाइम लिमिट्स) के अंदर काम करेंगे। हम उम्मीद करते हैं कि जल्द ही हम सब दिल्ली वालों का सपना पूरा होगा और यमुना साफ होगी।

Share this story