राज्यमंत्री चौबे ने वेट रिलिंग यूनिट, ईएसआईसी अस्पताल और लाईवलीहुड कालेज का किया निरीक्षण
राज्यमंत्री चौबे ने वेट रिलिंग यूनिट, ईएसआईसी अस्पताल और लाईवलीहुड कालेज का किया निरीक्षण

कोरबा : भारत सरकार के पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन एवं उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के राज्यमंत्री  अश्विनी कुमार चौबे ने कोसा धागाकरण के लिए कोरबा शहर में स्थापित प्रदेश के पहले वेट रिलिंग इकाई का निरीक्षण किया। इस दौरान राज्यमंत्री  चौबे ने परिसर में कलेक्टर  रानू साहू और जनप्रतिनिधिगण के साथ वृक्षारोपण भी किया। राज्यमंत्री  चौबे ने रेशम विभाग के कोसाबाड़ी केन्द्र में पहुंचकर महिलाओं द्वारा कोकून से धागा निकालने के किये जा रहे काम का अवलोकन किया। उन्होंने रेशम विभाग के सहायक संचालक से केन्द्र में स्थापित वेट रिलिंग और बुनियाद रिलिंग इकाई के बारे में जानकारी ली। राज्यमंत्री  चौबे ने इस दौरान केन्द्र में काम कर रही महिलाओं से भी बात की तथा कोसा धागाकरण से होने वाले आवक के बारे में भी जानकारी ली। कोसाबाड़ी केन्द्र में लगभग 45 महिलाएं वेट रिलिंग और बुनियाद मशीन से कोसा धागा निकालने के काम में संलग्न हैं। जिले के बुनकर उच्च गुणवत्ता के कोसा धागा के लिए चाईना और जापान जैसे देशों पर निर्भर थे। इस कमी को पूरा करने के लिए रेशम विभाग द्वारा वेट रिलिंग मशीन स्थापित किया गया है। इस मशीन से उच्च गुणवत्ता के कोसा धागा निकालने का काम महिलाओं द्वारा किया जा रहा है। जिससे महिलाओं को प्रति माह अच्छी आमदनी हो रही है। केन्द्र में ककून से निकाले गये धागा शत प्रतिशत टसर सिल्क होता है। इस दौरान रामपुर क्षेत्र के विधायक ननकीराम कंवर, कलेक्टर  रानू साहू, जिला पंचायत के सीईओ  नूतन कंवर, एसडीएम कोरबा हरिशंकर पैंकरा, पूर्व मंत्री  अमर अग्रवाल  सहित अन्य अधिकारी-कर्मचारी और जन प्रतिनिधिगण मौजूद रहे।


राज्यमंत्री चौबे ने लाईवलीहुड कॉलेज का भी किया निरीक्षण, युवाओ को किया प्रोत्साहित- भारत सरकार के पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन एवं उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के राज्यमंत्री  अश्विनी कुमार चौबे ने कोरबा शहर स्थित लाईवलीहुड कॉलेज में पहुंचकर युवाओं को दिये जा रहे कौशल प्रशिक्षण का जायजा लिया। उन्होंने हास्पिटालिटी, इलेक्ट्रिशियन, औद्योगिक सिलाई मशीन प्रशिक्षण एवं फैशन डिजाईनिंग के कोर्साे के बारे में लाईवलीहुड कालेज के प्राचार्य से जानकारी ली। प्राचार्य ने बताया कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना और मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत युवाओं को रोजगार मूलक कार्याे की निःशुल्क प्रशिक्षण दी जा रही है। योजना प्रारंभ से अभी तक जिले में लगभग 23 हजार युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका हैं। राज्यमंत्री  चौबे ने सिलाई प्रशिक्षण कक्ष में जाकर प्रशिक्षु युवाओं से बात की। उन्होने प्रशिक्षण ले रही छात्राओं से उनके द्वारा बनाये जाने वाले विभिन्न प्रकार के ड्रेस, बैग एवं अन्य कपड़े के वस्त्रो के बारे मे जानकारी ली। उन्होने छात्राओं द्वारा बनाये जा रहे कपड़ो के समानो का अवलोकन किया तथा छात्राओं को मेहनत और लगन के साथ प्रशिक्षण पूर्ण करने  और आगे बढने के लिए शुभकामनाएं भी दी।

राज्यमंत्री चौबे ने ईएसआईसी अस्पताल का किया निरीक्षण- राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कोरबा निगम क्षेत्र अंतर्गत डिंगापुर में कर्मचारी राज्य बीमा निगम द्वारा श्रमिको के ईलाज के लिए स्थापित अस्पताल का भी निरीक्षण किया। उन्होने अस्पताल में पहुंचकर मरीजो के ईलाज के लिए विकसित सुविधाओं, आपातकालीन सेवाओं, ओ.पी.डी., आई.पी.डी., वार्ड, लेबोरेटरी, आई.सी.यू., आपरेशन थियेटर, मातृत्व सेवाएं आदि की जानकारी ली। उन्होने कोरबा तथा आसपास जिलो के बीमाकृत व्यक्तियों के बारे मेे भी जानकारी ली तथा अस्पताल में ईलाज के लिए सभी सुविधाओं को विकसित करने के निर्देश दिये। ईएसआईसी अस्पताल कोरबा 100 बिस्तर क्षमता का विकसित किया गया हैं। अस्पताल का लाभ कोरबा तथा इसके आसपास जिलों-क्षेत्रों में कर्मचारी राज्य बीमा निगम के लगभग 65 हजार बीमाकृत व्यक्तियों तथा दो लाख 50 हजार हितग्राहियों को मिलेगा। ईएसआईसी अस्पताल को कोरोना काल के दौरान कोविड अस्पताल के रूप में संचालित किया जा रहा था। वर्तमान में यह अस्पताल प्रशासन द्वारा कर्मचारी राज्य बीमा निगम को हस्तांतरित किया जा चुका है।

Share this story