श्रद्धेय बाबूलाल गौर का जीवन अद्भुत था : CM चौहान
श्रद्धेय बाबूलाल गौर का जीवन अद्भुत था : CM चौहान

भोपाल : मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि श्रद्धेय बाबूलाल गौर का जीवन अद्भुत और संघर्ष से भरा था। उनकी अनेक उपलब्धियाँ हैं। भोपाल में वीआईपी रोड उन्हीं के देन है। उनकी स्मृति को अक्षुण्ण रखने के लिए इस महाविद्यालय का नामकरण उनके नाम पर किया गया है। मुख्यमंत्री  चौहान बाबूलाल गौर शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय भोपाल के नवीन भवन का लोकार्पण एवं नामकरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, विधायक  कृष्णा गौर,  रामेश्वर शर्मा सहित  सुमित पचौरी, प्रशासनिक अधिकारी, नागरिक एवं छात्र-छात्राएँ उपस्थित थी।

मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि पूरा मध्यप्रदेश एक परिवार है। जनता इसकी भगवान है और मैं जनता का पुजारी हूँ। प्रदेश के विकास के साथ गोविंदपुरा विधानसभा के विकास के लिए भी कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। जनता के कल्याण के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है। मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना में उच्च शिक्षा के लिए मेधावी विद्यार्थियों की फीस राज्य सरकार द्वारा भरी जाएगी। उन्होंने कहा कि देश का सबसे बड़ा ग्लोबल स्किल पार्क गोविंदपुरा विधानसभा में बन रहा है। इससे अनेक युवाओं को रोजगार के अवसर मिलेंगे।

मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि प्रदेश में भू-माफियाओं से मुक्त कराई गई जमीन गरीबों को आवास बनाने के लिए दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने महाविद्यालय को ‘ए’ ग्रेड में शामिल करने के लिए महाविद्यालय के प्राचार्य एवं संबंधितों को आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि महाविद्यालय की विभिन्न माँगों को पूरा किया जाएगा। महाविद्यालय में पी.जी. क्लासेज शुरू की जाएंगी, प्राध्यापकों और स्टॉफ के पद भी स्वीकृत किए जाएंगे। उन्होंने स्वच्छता और पर्यावरण के मामले में भोपाल को आगे बढ़ाने का आहवान किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी एक जून को भोपाल का गौरव दिवस मनाया जाएगा। हर क्षेत्र में भोपाल को आगे बढ़ाएंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कार्यक्रम में प्रधानमंत्री आवास योजना, आयुष्मान भारत योजना सहित विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों को लाभान्वित किया।

मुख्यमंत्री  चौहान ने कार्यक्रम के पूर्व स्व. बाबूलाल गौर के जीवन पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन किया। उन्होंने कन्या-पूजन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने स्व. बाबूलाल गौर के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर दीप प्रज्ज्‍वलित किया। मुख्यमंत्री  चौहान ने स्व.  गौर के कार्यों में सहयोग करने वाले पाँच व्यक्तियों को सम्मानित भी किया। मुख्यमंत्री  चौहान को स्मृति-चिन्ह भेंट कर स्वागत किया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने महाविद्यालय की वार्षिक पत्रिका ‘सर्जना’ एवं पुस्तक ‘आजादी का युवा स्मरण’ का विमोचन भी किया। प्राचार्य मथुरा प्रसाद ने आभार माना।

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि स्व. बाबूलाल गौर का जीवन हम सबके लिए प्रेरणा स्त्रोत है। उन्होंने गीता के कर्मयोगी की तरह अपना जीवन-यापन किया। मुख्यमंत्री  चौहान के कुशल मार्गदर्शन में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में प्रदेश अनेक उपलब्धियाँ हासिल कर रहा है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में उनके मार्गदर्शन में ही कई पाठ्यक्रम जोड़े गए हैं।

विधायक  कृष्णा गौर ने कहा कि आज हम सभी का सौभाग्य है कि मुख्यमंत्री चौहान की उपस्थिति में यह कार्यक्रम आयोजित हो रहा है। मुख्यमंत्री  चौहान ऐसे जननायक हैं, जिनके कुशल नेतृत्व में प्रदेश लगातार विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा है। उन्होंने सबसे अधिक समय तक मुख्यमंत्री रहने का रिकार्ड कायम किया है। विधायक  गौर ने मुख्यमंत्री  चौहान को धन्यवाद देते हुए कहा कि इस महाविद्यालय को आगे बढ़ाने में उनका बड़ा योगदान है। पूज्यनीय बाबूजी स्व. बाबूलाल गौर के अनुरोध पर उन्होंने इस महाविद्यालय के विकास के लिए राशि स्वीकृत कर उल्लेखनीय कार्य किया है।

Share this story