केन्द्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह रहीं एक दिवसीय सुकमा जिला प्रवास पर
केन्द्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह रहीं एक दिवसीय सुकमा जिला प्रवास पर

सुकमा :  प्रदेश के आकांक्षी जिलों मेें शामिल सुकमा में केन्द्रीय राज्य मंत्री, जनजातीय मामले मंत्रालय, भारत सरकार  रेणुका सिंह एक दिवसीय जिला प्रवास पर रहीं। उन्होंने जिले में हो रहे विकास कार्यों का जायजा लिया, अधिकारियों की बैठक ली और स्वामी विवेकानन्द युवा शक्ति केंद्र का अवलोकन भी किया। संयुक्त जिला कार्यालय में आहुत बैठक में मंत्री  रेणुका सिंह ने जिले में किए जा रहे उत्कृष्ट कार्यों, विगत 3 वर्षों की उपलब्धियों और संभावनाओं को लेकर अवगत हुई। इस दौरान बैठक में समस्त जनप्रतिनिधिगण, कलेक्टर  विनीत नन्दनवार, पुलिस अधीक्षक  सुनील शर्मा, वनमण्डलाधिकारी जे.एस.रामचन्द्र, जिला पंचायत सीईओ  देवनारायण कश्यप सहित समस्त विभाग प्रमुख उपस्थित रहे।

मंत्री  रेणुका सिंह ने जिले में किए जा रहे विकास कार्यों, सिंचाई सुविधा के लिए किए गए नवाचार गिरदालपारा लिफ्ट सिंचाई परियोजना, सलवा जुडूम के दौरान ध्वस्त स्कूल/आश्रम भवन का पुनः संचालन, दुब्बाटोटा मत्स्य प्रसंस्करण केन्द्र, आदि की भूरी भूरी प्रशंसा करते हुए कलेक्टर एवं विभागीय अधिकारियों की पीठ थपथपाई। इस दौरान उन्होंने कहा कि सुकमा जैसे नक्सल क्षेत्र में कार्य करना चुनौतीपूर्ण कार्य है। उन्होंने सुविधा शिविर के माध्यम से अंदरुनी क्षेत्र के ग्रामीणों को आधार कार्ड, राशन कार्ड, आयुष्मान कार्ड, पेंशन पंजीयन आदि का लाभ प्रदान करने की खूब सराहना की। इसी प्रकार नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में बसें गांव के बच्चों को घर पहुंच जाति प्रमाण पत्र, संस्थागत प्रसव की दर में आई बढ़ोत्तरी और कोविड के दौरान प्रशासनीक प्रबंधन की तारीफ की। उन्होंने कहा कि कोविड संक्रमण से पूरे देश प्रदेश में अफरा तफरी का माहौल रहा, लेकिन सुकमा जैसे आदिवासी बाहुल्य जिले में संक्रमण का फैलाव बेहद कम रहा, इसके लिए प्रशासन का कार्य काबिल-ए-तारीफ है। स्वामी विवेकानन्द युवा शक्ति केन्द्र के माध्यम से जिले के युवाओं को कराई जा रही प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी को उन्होंने जिला प्रशासन की उपलब्धि बताई। बैठक के पश्चात् उन्होंने युवा शक्ति केन्द्र में युवाओं से चर्चा भी की।

आकांक्षी जिलों के विभिन्न मापदण्डों में जिले में निरंतर आ रहे प्रगति और समय समय प्रधानमंत्री मोदी एवं नीति आयोग द्वारा की गई प्रशंसा को उन्होंने सुकमा जिले के विकास का प्रतिबिंब बताया है। उन्होंने जिले के प्रवेश द्वार पर आंकाक्षी जिले को दर्शाता सूचना पटल लगाने को कहा। इसके साथ ही विकास कार्यों में आ रही समस्याओं, विकास कार्यों में संभावनाओं को सूचीबद्ध कर प्रस्ताव देने को कहा।

केन्द्र सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा

मंत्री  सिंह ने केन्द्र सरकार की योजनाओं के संचालन की विस्तृत समीक्षा की। जिसमें प्रधानमंत्री आवास योजना, मुद्रा ऋण योजना, आयुष्मान कार्ड पंजीयन, बच्चों को प्रदाय छात्रवृत्ति, जल जीवन मिशन, मनरेगा आदि योजनाओं के क्रियान्वयन, प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने जल जीवन मिशन की समीक्षा के दौरान कार्यगति में सुधार लाने के निर्देश देते हुए बताया कि सरकार की मंशा है की वर्ष 2024 तक 19 करोड़ घरों तक पेयजल व्यवस्था पूर्ण हो। शासकीय भवनों के गुणवत्ता निर्माण, रंग रोगन के लिए प्रत्येक ब्लॉक से पांच पांच राजमिस्त्रियों को कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने को कहा।

जिले में संचालित आश्रम शालाओं, स्कूलों के शिक्षण व्यवस्था, आवासीय सुविधाएं आदि का संज्ञान लेते हुए उन्होने सभी माध्यमिक व उच्चतर माध्यमिक शालाओं, आश्रमों में बच्चों की सुरक्षा की दृष्टि से सीसीटीवी कैमरा लगाने के निर्देश दिए है। इसके साथ ही बालिकाओं की सुविधा के लिए सैनेटरी पैड डिस्पेसिंग मशीन लगवाने को कहा। उन्होंने कहा कि सुकमा जिले के बच्चे, युवाओं में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है, पढ़ाई, खेल या अन्य गतिविधियों में यहां के बच्चें उम्दा प्रदर्शन कर रहें हैं, उन्हें और प्रोत्साहित करें। जिले के विकास के लिए आवश्यक है कि भारत सरकार, राज्य सरकार, जनप्रतिनिधि एवं प्रशासन कंधे से कंधे मिलाकर कार्य करें। कार्य पथ पर आने वाली चुनौतियों का डटकर सामना करते हुए जिले के अंतिम छोर तक समस्त योजनाओं का लाभ सुनिश्चित करें।

Share this story