कौशल विकास के लिये युवाओं को प्रेरित करने वाले ग्राम प्रतिनिधियों को किया सम्मानित
कौशल विकास के लिये युवाओं को प्रेरित करने वाले ग्राम प्रतिनिधियों को किया सम्मानित

भोपाल :  दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना में अधिक से अधिक युवाओं को कौशल प्रशिक्षण हेतु प्रेरित करने के लिये प्रदेश के दो ग्रामों के प्रतिनिधियों को सम्मानित किया गया। केन्द्रीय सचिव ग्रामीण विकास की अध्यक्षता में आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में रतलाम एवं देवास जिले के ग्राम प्रतिनिधियों ने आज भोपाल से प्रतिभागिता की।

उल्लेखनीय है कि दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना केन्द्र सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना है, जिसमें 18 से 35 वर्ष आयु वर्ग के ग्रामीण युवाओं को बाजार में मांग आधारित विभिन्न ट्रेड में व्यवसायिक प्रशिक्षण दिया जाता है। योजना का उद्देश्य ग्रामीण युवाओं को लघु अवधि के निःशुल्क प्रशिक्षण देने के बाद रोजगार के निश्चित अवसर प्रदान करना है।

जिन ग्रामों के ग्राम प्रतिनिधियों द्वारा अपने ग्राम के अधिक से अधिक युवाओं को प्रशिक्षण हेतु प्रेरित किया गया है, उन्हें आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में केन्द्रीय ग्रामीण विकास विभाग एवं एनआईआरडी हैदराबाद द्वारा सम्मानित किये जाने के लिये आज वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

देश के विभिन्न प्रदेशों के 75 ग्रामों के प्रतिनिधियों को सम्मानित किये जाने के लिये चयनित किया गया था। इनमें मध्यप्रदेश के रतलाम जिले के खारवा कला तथा देवास जिले के वरोठा ग्राम का चयन किया गया। इन ग्रामों के प्रतिनिधियों का आज सम्मान किया गया।

 एल.एम. बेलवाल, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा राज्य कार्यालय आजीविका मिशन में  रेशम बाई, प्रधान ग्राम खारवाकलां जिला रतलाम,  अंशु बाई अध्यक्ष आजीविका ग्राम संगठन खारवाकलां जिला रतलाम,  जयंत नागर ग्राम प्रधान ग्राम बरोठा जिला देवास एवं विमल नागर आजीविका ग्राम संगठन बरोठा को सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम में उपस्थित जन-प्रतिनिधियों ने अपने अनुभव साझा किये एवं कौशल विकास के लिए युवाओं को प्रेरित करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता दिखाई। ग्राम संगठन अध्यक्ष  विमल नागर ने वीडियो कॉन्फेंस से केन्द्रीय सचिव ग्रामीण विकास नागेन्द्र नाथ से संवाद कर ग्राम में किये गये प्रयासों की जानकारी दी।

Share this story