हरिद्वार में रोड शो से केजरीवाल का शक्ति प्रदर्शन
हरिद्वार में रोड शो से केजरीवाल का शक्ति प्रदर्शन

हरिद्वार। आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हरिद्वार में रोड शो कर शक्ति प्रदर्शन किया। रोड शो में हजारों की संख्या में कार्यकर्ता जुटे। करीब एक किलोमीटर से ज्यादा की दूरी तक निकले रोड शो में केजरीवाल ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा। पुराना रानीपुर मोड़ से शुरू होकर शंकर आश्रम चौक पर पहुंचकर रोड शो का समापन हुआ। समापन के दौरान लगभग चार मिनट 48 सेकेंड के संबोधन में केजरीवाल ने भाजपा और कांग्रेस पर निशाना साधने के साथ ही जनता से आम आदमी पार्टी को एक मौका देने की अपील की।


रविवार को दोपहर ढाई बजे पुराना रानीपुर मोड़ से आम आदमी पार्टी का रोड शो शुरू हुआ। रथ में सवार अरविंद केजरीवाल के साथ प्रदेश और जिले के पदाधिकारी शामिल हुए। रोड शो में अरविंद केजरीवाल हाथ जोड़कर अभिवादन स्वीकार करते हुए आगे बढ़ रहे थे। हजारों की संख्या में कार्यकर्ता हाथों में तिरंगा और पार्टी के झंडे-बैनर लेकर देशभक्ति गीतों पर झूमते हुए चलते रहे। पुराना रानीपुर मोड़ से चंद्राचार्य चौक होते हुए रोड शो शंकर आश्रम चौक पहुंचा। यहां केजरीवाल ने अपने संबोधन में कहा कि 20 साल में भाजपा और कांग्रेस का शासन उत्तराखंड में रहा। दोनों दलों ने ही उत्तराखंड को लूटने में कोई कसर नहीं छोड़ी। दोनों में आपसी सहमति है कि एक बार भाजपा और एक बार कांग्रेस राज करेगी। अब ये खेल खत्म करना है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की जनता ने एक मौका दिया था। आम आदमी पार्टी ने सात साल में दिल्ली के अंदर जबरदस्त काम करके दिखाए हैं। इसके बाद सभी पार्टी वहां हवा हो गई।


रोड शो में युवा दिखे सबसे ज्यादा

हरिद्वार में केजरीवाल के रोड शो में युवाओं और महिलाओं की संख्या ज्यादा देखने को मिली। रोड शो के दौरान केजरीवाल के वाहन के आगे चल रही युवाओं की टोली संगीत की धुन पर थिरकती भी दिखी। हरिद्वार के ऋषिकुल मैदान में जमा लोग अपने नेता के आने से पहले ही उत्साह से लबरेज दिखे। केजरीवाल के रोड शो में हर उम्र का व्यक्ति पहुंचा था। लेकिन युवाओं की तादात सबसे अधिक देखने को मिली। महिलाओं भी काफी संख्या में नजर आयीं। रोड शो में युवाओं का जोश देखने लायक था। हाथ में तिरंगा और सिर पर आप की टोपी पहने युवाओं की टोली देशभक्ति गाने पर थिरकती दिखी। मैं भी केजरीवाल हूं, मैं भी केजरीवाल हूं जैसे नारे युवा लगा रहे थे।

Share this story